चीन ने गुपचुप कार्रवाई में सक्षम 31 वां जहाज पानी में उतारा

चीन ने गुपचुप कार्रवाई में सक्षम 31 वां जहाज पानी में उताराचीन ने गुपचुप कार्रवाई में सक्षम 31 वां जहाज पानी में उतारा

बीजिंग, प्रेट्र। अपनी नौसेना की ताकत को बढ़ाते हुए चीन ने रविवार को रडार और सोनार को गच्चा देने में सक्षम 31 वें लड़ाकू जहाज का जलावतरण किया। दुनिया की सबसे बड़ी नौसेना वाला देश चीन दक्षिण चीन सागर में बढ़ते तनाव के मद्देनजर अपनी ताकत बढ़ा रहा है।

अमेरिका ने चीन से दक्षिण चीन सागर से कब्जा खत्म करने के लिए कहा है जबकि उस जल क्षेत्र पर दावा करने वाले पड़ोसी देश भी अपना हक जताने की तैयारी कर रहे हैं। दक्षिण चीन सागर क्षेत्र दुनिया के सबसे व्यस्त व्यापारिक मार्गो में शुमार है।

यह भी पढ़ें: ट्रंप ने प्रार्थना के साथ की दिन की शुरुआत

चीन के आधिकारिक मीडिया के अनुसार 52 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने वाला यह जहाज तमाम खूबियों से लैस है। इसमें विमान, जहाज और पनडुब्बी को मार गिराने में सक्षम हथियार लगे हुए हैं। युद्धक कार्रवाइयों से इतर इस जहाज का गश्त करने और मछुआरों की सुरक्षा में भी इस्तेमाल हो सकता है।

चंद साल पहले तक रूस दुनिया की सबसे बड़ी नौसैनिक ताकत था। उसके पास 80 लड़ाकू जहाज हैं। लेकिन ये ज्यादातर जहाज 30 से 40 साल पुराने हैं और उनमें लड़ाई के आधुनिक उपकरण नहीं हैं। इसलिए चीन को आधुनिक उपकरणों से लैस दुनिया की सबसे बड़ी नौसेना माना जाता है।

यह भी पढ़ें: ट्रंप विरोधी मार्च में भारतीय-अमेरिकी सांसदों ने भी लिया हिस्सा

पिछले दस साल में चीन ने करीब एक सौ लड़ाकू जहाज और पनडुब्बी पानी में उतारी हैं। ये सभी आधुनिक उपकरणों से लैस हैं। इनमें से 20 तो वर्ष 2015 में ही पानी में उतारे गए। चीन ने अपना पहला विमानवाहक पोत 2016 में समुद्र में उतारा है। दूसरे के लिए उसकी तैयारियां तेजी से आगे बढ़ रही हैं। वर्ष 2017 में जलावतरित हुआ यह चीन का दूसरा लड़ाकू जहाज है।