हवाई सफर में सामान का बोझ करेगा जेब ढिली, जानिए कितने किलो पर करना होगा कितना भुगतान

नई दिल्ली (प्रेट्र)। देश में हवाई सफर निजी एयरलाइनों के कारण अब और महंगा हो रहा है। इंडिगो, गोएयर और स्पाइसजेट जैसी घरेलू एयरलाइनों ने बैगेज चार्जेज 15 किलो के मानक से अधिक होने पर बढ़ा दिए हैं। गोएयर के नए शुल्क लागू हो चुके हैं, जबकि इंडिगो और स्पाइस जेट ने अतिरिक्त बैगेज चार्जेज शुक्रवार से वसूलने शुरू कर दिये हैं। केवल सरकारी एयरलाइंस एयर इंडिया घरेलू क्षेत्र में एकमात्र एयरलाइन है जिसने यात्रियों को 25 किलो तक का सामान मुफ्त ले जाने की इजाजत दे रखी है।

इंडिगो जिसने हाल ही में घरेलू उड़ानों में ईंधन पर 400 रुपये का सरचार्ज लगाया था, अब उसने यात्रियों पर लगेज चार्जेज के नाम पर बोझ बढ़ा दिया है। उसने अपनी आधिकारिक वेबसाइट में बताया है कि 15 किलो के भार से अधिक होने पर यात्री को हवाई अड्डे पर ही 400 रुपये प्रति किलो के हिसाब से अतिरिक्त शुल्क देना होगा।

हवाई टिकट की पहले से बुकिंग की सूरत में एयरलाइंस सामान का पांच किलो अतिरिक्त भार होने पर 1900 रुपये अधिक वसूलेगी। दस किलो अतिरिक्त भार पर 3800 रुपये अधिक लेगी। जबकि 15 किलो पर 5700 और 30 किलो पर 11,400 रुपये अतिरिक्त चुकाने होंगे। पिछले अगस्त में जब प्री बुकिंग चार्जेज बढ़ाए गए थे तब सामान के अतिरिक्त पांच किलो वजन पर 1425 रुपये चुकाने थे। 10 किलो पर 2850, 15 पर 4275 और 30 पर 8550 रुपये का शुल्क लगता था।

भारतीय एयरलाइंस में शामिल होंगे 900 विमान यह भी पढ़ें

वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक गोएयर के शनिवार से लागू शुल्क इंडिगो के शुल्क के जैसे ही हैं। वहीं, स्पाइसजेट के सूत्रों के अनुसार घरेलू उड़ानों में प्री बुकिंग के चार्जेज पांच, दस, 15, 20 और 30 किलो के अतिरिक्त भार पर क्रमश: 1600 रुपये, 3200, 4800, 6400 और 9600 रुपये होंगे। वहीं, इंडिगो ने बैगेज फीस बढ़ाने पर कहा है कि अगर कस्टमर ने लाइट फेयर रिपोर्ट स्कीम के तहत बुकिंग की है तो एयरपोर्ट पर चेकइन के वक्त 15 किलो के बैगेज एलाउंस की सुविधा के लिए 200 रुपये का भुगतान करना होगा।

By Nancy Bajpai