पाक से पैसे लेने के आरोप में हुर्रियत नेताओं के खिलाफ जांच शुरू

पाक से पैसे लेने के आरोप में हुर्रियत नेताओं के खिलाफ जांच शुरूपाक से पैसे लेने के आरोप में हुर्रियत नेताओं के खिलाफ जांच शुरू प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने अलगाववादी हुर्रियत नेता शब्बीर शाह को पूछताछ के लिए तलब किया है।

न्यूज़ ऑनलाइन ब्यूरो, नई दिल्ली। पाक स्थित आतंकी संगठनों से पैसा लेकर घाटी में हिंसक प्रदर्शन कराने वाले हुर्रियत नेताओं पर जांच एजेंसियों का शिकंजा कसना शुरू हो गया है। एक चैनल के स्टिंग आपरेशन में हुर्रियत नेताओं की स्वीकारोक्ति के बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) ने प्रारंभिक जांच का केस दर्ज कर लिया है। वहीं प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने अलगाववादी हुर्रियत नेता शब्बीर शाह को पूछताछ के लिए तलब किया है।

गौरतलब है कि एक न्यूज चैनल के स्टिंग आपरेशन में हुर्रियत गिलानी धड़े के प्रांतीय अध्यक्ष नईम खान ने पत्थरबाजों को देने के लिए आइएसआइ से पैसे लेने की बात कबूल की थी। दरअसल नईम खान से अंडरकवर रिपोर्टर्स ने संपर्क साधा था और खुद को काल्पनिक धनकुबेर बताते हुए कश्मीर के अलगाववादियों को फंडिंग की इच्छा जताई थी। नईम खान उनसे मिलने दिल्ली तक पहुंच गया। नईम खान कैमरे पर ये कहते हुए कैद हुआ कि पाकिस्तान पिछले छह साल से कश्मीर में बड़ा प्रदर्शन खड़ा करने के लिए हुर्रियत नेताओं को बड़ी मात्रा में फंडिंग कर रहा है। घाटी में हिंसा को बढ़ावा देने के लिए किस स्तर पर पैसा उड़ेला जा रहा है, इस पर नईम खान ने कहा कि पाकिस्तान से आने वाला पैसा सैकड़ों करोड़ से ज्यादा है, लेकिन हम और ज्यादा की उम्मीद करते हैं। गौरतलब है कि घाटी में 2010 में कई महीने तक हिंसक प्रदर्शनों का दौर जारी रहा था। कैमरे में कैद अन्य हुर्रियत नेताओं का कहना था कि सिर्फ आइएसआइ ही नहीं, लश्करे तैयबा प्रमुख हाफिज सईद व अन्य आतंकी संगठनों की ओर से उन्हें पैसा भेजा जाता है।

स्टिंग आपरेशन में खुलासे को गंभीरता से लेते हुए एनआइए ने प्रारंभिक जांच का केस दर्ज कर लिया है। एक ओर एनआइए की टीम न्यूज चैनल से स्टिंग आपरेशन की मूल प्रति ले रही है, वहीं दूसरी टीम हुर्रियत नेताओं से पूछताछ करने श्रीनगर पहुंच गई है। एनआइए की प्रारंभिक जांच में सैयद अली शाह गिलानी, नईन खान, फारूख अहमद डार और गाजी जावेज बाबा के नाम शामिल हैं। एनआइए के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस मामले में जल्द ही एफआइआर दर्ज की जा सकती है। इसके बाद आतंकी संगठनों से पैसा लेने वाले हुर्रियत नेताओं को गिरफ्तार भी किया जा सकता है।

वहीं पिछले दिनों उत्तरप्रदेश एटीएस द्वारा गिरफ्तार आइएसआइ के तीन एजेंटों ने बताया है कि किस तरह पाकिस्तानी राजदूत अब्दुल बासित उनके माध्यम से हुर्रियत नेताओं को पैसा भेजता है। उनके पास से बरामद दस्तावेजों से हुर्रियत नेता शब्बीर शाह को हर महीने मोटी रकम मिलने का खुलासा हुआ था। इस खुलासे को गंभीरता से लेते हुए ईडी ने शब्बीर शाह को पूछताछ के लिए तलब किया है। शाह को 25 मई को ईडी मुख्यालय आने को कहा गया है।

यह भी पढ़ेंः सुप्रीम कोर्ट ने ठुकराई जस्टिस कर्नन की रिट याचिका

यह भी पढ़ेंः अगले मार्च तक लंबित मामलों का निपटारा करेगा सीआइसी