नोएडा सेक्टर 14 के सामने कूड़ाघर बनाए जाने के खिलाफ सुप्रीम में याचिका

नई दिल्ली [ माला दीक्षित ]। नोएडा के पॉश इलाके सेक्टर 14 के सामने नोएडा अथारिटी कूड़ा घर बना रही है। सेक्टर वासियों ने इससे राहत के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल कर कूड़ाघर बनाने और वहां कूड़ा डालने पर रोक लगाने की मांग की गई है। कोर्ट इस अर्जी पर शुक्रवार को सुनवाई करेगा।

सुप्रीम कोर्ट में कूड़ाघर बनाने और वहां कूड़ा डालने के खिलाफ यह अर्जी सेक्टर 14 में रहने वाले सुप्रीम कोर्ट के तीन वकीलों, डीके गर्ग, एसएन भट्ट और नीरज शर्मा ने दाखिल की है। याचिकाकर्ताओं ने मुख्य न्यायाधीश की पीठ के समक्ष अर्जी का जिक्र करते हुए मामले पर जल्द सुनवाई की मांग की थी। जिसे स्वीकार करते हुए मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा ने मामला 16 मार्च को उचित पीठ के समक्ष सुनवाई के लिए लगाए जाने का आदेश दिया।

सुप्रीम कोर्ट में समलैंगिकता को अपराध से बाहर करने की याचिका यह भी पढ़ें

दाखिल अर्जी में कहा गया है कि सेक्टर 14 के सामने कूड़ाघर बनाने पर रोक लगाने की मांग का मामला सुप्रीम कोर्ट में 2011 से लंबित है। कोर्ट ने उस याचिका पर सुनवाई करते हुए 21 अक्टूबर 2011 में एक अंतरिम आदेश दिया था जिसमें सेक्टर 14 के सामने मुख्य द्वार के पास बन रहे कूड़ाघर के मामले में यथास्थिति कायम रखने के आदेश दिये गये थे। वह मामला अभी भी लंबित है।

इस नयी अर्जी में कहा गया है कि कोर्ट के उस अंतरिम रोक (यथास्थिति बनाये रखने) आदेश के बावजूद नोएडा अथारिटी ने उस अधबने कूड़ाघर में ही कूड़ा डालना शुरू कर दिया जिससे सेक्टर वासियों को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वहां कूड़े के कारण न सिर्फ बदबू रहती है और बीमारियों का खतरा पैदा हो रहा है, बल्कि आवारा जानवर भी घूमते हैं जो आने जाने वाले लोगों पर हमला करते हैं।

अर्जी में कहा गया है कि नोएडा अथारिटी ने कोर्ट के यथास्थिति कायम रखने के आदेश के बावजूद अभी हाल में उस जगह बड़ा सा नया कूड़ाघर बनाने का आदेश दिया है। नये कूड़ाघर का निर्माण कार्य गत 9 मार्च से शुरू हो गया है। अर्जी के साथ बन रहे नये कूड़ाघर के फोटो भी लगाए गए हैं। अर्जी में कोर्ट से मांग की गई है कि कोर्ट नोएडा अथारिटी को कूड़ाघर के निर्माण करने से और वहां कूड़ा डालने से रोके।

'आधार' मामले में केंद्र के खिलाफ अवमानना की अर्जी, 14 सितंबर को SC में सुनवाई यह भी पढ़ें

By Bhupendra Singh