‘रंगून की असफलता से हिल गयी थी, लगा जैसे ख़त्म हो गयी’